Latest News

श्रावणी मेला के कार्यों को आचार संहिता से मुक्त रखने का देवघर डीसी ने किया अनुरोध

N7News Admin 30-03-2019 12:31 AM देवघर




देवघर।   

उपायुक्त-सह-प्रशासक बाबा बैद्यनाथ मंदिर, देवघर राहुल कुमार सिन्हा द्वारा मुख्य सचिव-सह-अध्यक्ष Screening committee को पत्राचार कर श्रावणी मेला,  देवघर में श्रावणी मेला 2019 के अवसर पर कराये जाने वाले कार्यों को आचार संहिता से मुक्त रखने  के संबंध में पत्राचार किया गया है।

इस संबंध में उन्होंने कहा है कि श्रावणी एवं भादो मेला दिनांक 17.07.2019 से प्रारम्भ हो कर लगातार दो माह तक चलेगा। इस मेला में लाखों की संख्या में देवतुल्य श्रद्धालु, काँवरिया जलार्पण करने बाबा बैद्यनाथ धाम, देवघर पहुँचते हैं। श्रावणी मेला में आनेवाले श्रद्धालुओं के लिए अच्छी सड़क, पेयजल व्यवस्था, शहर की सफाई, काँवरिया के लिए टेंट-पंडाल आदि की व्यवस्था वृहत् स्तर पर जिला प्रशासन द्वारा किया जाता है। उक्त सभी कार्यों के लिए विभिन्न विभागों द्वारा निविदा आदि का निष्पादन तीन-चार माह पूर्व ही किया जाता है, जिससे ससमय सभी व्यवस्था गुणवत्ता के साथ पूर्ण कर लिया जा सके। सभी आवष्यक व्यवस्था मेला प्रारम्भ होने के पूर्व नहीं होने की स्थिति में मेला में आनेवाले लाखों श्रद्धालुओं को काफी कठिनाईयाँ उठानी पड़ सकती है। 

श्रावणी मेला के तैयारी से संबंधित जिला स्तर पर प्रथम समीक्षात्मक बैठक दिनांक 15.02.2019 को एवं द्वितीय समीक्षात्मक बैठक दिनांक 09.03.2019 को की गई। विभागवार आवंटन से संबंधित मांग कार्यालय पत्रांक 311 दिनांक 01.03.2019 के द्वारा सचिव, पर्यटन, कला, सांस्कृतिक, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग, झारखण्ड राँची से की गई है।

ज्ञातव्य है कि लोकसभा निर्वाचन की घोषणा भारत निर्वाचन आयोग द्वारा किया जा चुका है। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पत्रांक 437/6/2009-C C & BE दिनांक 05.05.2009 के कंडिका-8 में स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि “Tender other than global tenders that are already floated may be evaluated but not finalized without prior approval of the commission. If they are not already floated they shall not be floated without prior approval of the commission”.

चूँकि दिनांक 23.05.2019 तक आचार संहिता प्रवर्तन में है। ऐसी परिस्थिति में मात्र 1.5 (डेढ़) माह का ही समय श्रावणी मेला की पूर्व तैयारी हेतु शेष बचता है, जो इस वृहद् मेले की तैयारी के लिए बहुत ही कम है। उल्लेखनीय है कि पथ निर्माण विभाग, पेय जल एवं स्वच्छता विभाग, नगर निगम एवं जिला प्रशासन द्वारा निविदा आदि का प्रकाशन चार माह पूर्व ही किया जाता है, जिससे समय पर सभी कार्य गुणवत्ता के साथ पूर्ण हो सके।

    उक्त के आलोक में आचार संहिता के दौरान कराये जाने वाले कतिपय कार्यों के अनुमोदन हेतु भवदीय के अध्यक्षता में गठित Screening Committee के द्वारा भारत निर्वाचन आयोग को भेजा जाना है।

    अतः श्रावणी मेला, 2019 के अवसर पर विभिन्न विभागों द्वारा कराये जानेवाले कार्यों की सूची एवं विभागवार राशि की आवश्यकता से संबंधित प्रतिवेदन इस पत्र के साथ संलग्न कर भेजते हुए अनुरोध है कि श्रावणी मेला में श्रद्धालुओं के आगमन एवं विधि व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए निविदा आमंत्रण एवं अन्य कार्यों के सम्पादनार्थ इसे आचार संहिता से मुक्त रखने हेतु मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, झारखण्ड, राँची एवं भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली से अनुरोध करने की कृपा की जाय. 





रिलेटेड पोस्ट