Latest News

यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार होंगे प्रदीप यादव, पुलिस को मिला गिरफ्तारी वारंट

N7News Admin 30-06-2019 03:19 AM टाॅप न्यूज़

प्रदीप यादव।



[Edited by:शबिस्ता आज़ाद ]

देवघर।

जेवीएम के पूर्व महासचिव और पौड़ेयाहट विधायक प्रदीप यादव की अब जल्द गिरफ्तार होगी. प्रदीप यादव की गिरफ्तारी को लेकर देवघर पुलिस को गिरफ्तारी वारंट मिल गया है. 

अपनी ही पार्टी की नेत्री से यौन उत्पीड़न मामले में शुक्रवार को विधायक प्रदीप यादव की गिरफ्तारी को लेकर देवघर पुलिस ने सीजेएम गरिमा मिश्रा की अदालत में वारंट प्रे किया था. शनिवार को वारंट के आवेदन पर सुनवाई हुई. अभियोजन पक्ष की बहस सुनने के बाद प्रदीप यादव की गिरफ्तारी का आदेश पारित कर दिया गया. 

इन वजहों से पुलिस ने मांगा है प्रदीप यादव के खिलाफ वारंट: 

लिखित और मौखिक निर्देश के बावजूद प्रदीप यादव ने केस में इस्तेमाल मोबाइल फोन पुलिस के पास जांच के लिए जमा नहीं कराया है. जिसके कारण मोबाइल की फॉरेंसिक जांच नहीं हो पायी. इस वजह से अनुसंधान में बाधा उत्पन्न हो रही है. 

जेवीएम की महिला नेत्री ने प्रदीप यादव के विरुद्ध लगाया है यौन उत्पीड़न का आरोप :

बताते चलें, कि लोकसभा चुनाव के दौरान चार मई को जेवीएम की महिला नेत्री ने प्रदीप यादव के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए महिला थाना में एफआइआर दर्ज कराया था, जिसमें विधायक के अलावा शिव सृष्टि पैलेस होटल के प्रबंधक व अन्य को भी आरोपी बनाया गया है. मुकदमा दर्ज होने के बाद प्रदीप यादव की ओर से प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की गयी थी, 17 जून को आरोपी प्रदीप यादव की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी गयी थी. याचिका खारिज होने के बाद आइओ ने गिरफ्तारी के लिए गतिविधियां तेज की व वारंट के लिए कोर्ट में आवेदन दिया, जिसका आदेश आज जारी किया गया. इस केस में प्रदीप यादव के विरुद्ध गैर जमानती धाराएं लगायी गयी है.





रिलेटेड पोस्ट

  • राष्ट्रीय गौरव सम्मान से नवाज़े गए प्रिंस सिंघल
    गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के साथ बतौर सलाहकार काम कर चुके प्रिंस सिंघल को अंतर्राष्ट्रीय युवा सोसाइटी और नेशनल यूथ अवार्ड्स फेडरेशन ऑफ इंडिया से राष्ट्रीय गौरव सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • संचार मंत्री के करकमलों से पुरस्कृत हुए डॉ. प्रदीप
    पिछले सत्र 2018-19 को भारतीय डाक विभाग द्वारा अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन "ढाई आखर पत्र लेखन अभियान" के अंर्तगत सम्पूर्ण देश मे किया गया था, जिसमें नौ लाख से अधिक व्यक्तियों की भागीदारी हुई थी।