Latest News

जुलाई में रिलायंस जियो से जुड़े 85 लाख से ज्यादा ग्राहक, एयरटेल,वोडाफोन व आइडिया को झटका

N7News Admin 19-09-2019 10:48 PM देश




नई दिल्ली।

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने जुलाई में 85 लाख से ज्यादा नए यूजर्स को जोड़ने के साथ ही मोबाइल ग्राहकों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की है। जबकि इस अवधि में एयरटेल ने 25  लाख 90 हजार और  और वोडाफोन आइडिया ने 33 लाख 90 हजार से अधिक ग्राहक खो दिए हैं। 

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। ट्राई के मासिक ग्राहकी आंकड़ों के मुताबिक, जियो के अलावा बीएसएनएल ही इकलौती ऑपरेटर रही, जिसने जुलाई में नए ग्राहक जोड़े। सरकारी ऑपरेटर ने जून में 2.88 लाख नए ग्राहक जोड़े। 

मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (एमएनपी) के जुलाई 2019 में कुल 59 लाख आवेदन मिले।वहीं, देश में वायरलेस ग्राहकों (जीएसएम, सीडीएमए और एलटीई) की कुल संख्या जुलाई 2019 में 116.83 करोड़ पहुंच गई है, जोकि जून 2019 में यह 116.54 करोड़ थी।

ट्राई के आंकड़ों के मुताबिक जियो के अब कुल 33.97 करोड़ ग्राहक हैं। कम कीमत के रिचार्ज पैक को दोबारा चालू करने का फायदा भी एयरटेल और वोडा-आइडिया का मिलता नही दिखाई दे रहा। जून के मुकाबले  एयरटेल ने कहीं अधिक ग्राहक खोये। जून में एयरटेल ने 30 हजार के करीब ग्राहक खोये थे जो जुलाई में बढ़कर 25 लाख से भी ज्यादा हो गए। वोडाफोन ने भी जून महीने में 41 लाख के करीब ग्राहक गंवाए थे।

ब्रॉडबैंड मार्किट शेयर में भी जियो प्रतिद्वंदी कंपनियों से कहीं आगे है। 56.25 प्रतिशत मार्किट शेयर के साथ जियो टॉप पर है तो भारती एयरटेल के पास 20.52 प्रतिशत और वोडा-आइडिया के पास 18.36 प्रतिशत मार्किट शेयर है। ब्रॉडबैंड में वायरलेस और वायर सर्विस दोनों को शामिल किया जाता है।





रिलेटेड पोस्ट

  • राष्ट्रीय गौरव सम्मान से नवाज़े गए प्रिंस सिंघल
    गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के साथ बतौर सलाहकार काम कर चुके प्रिंस सिंघल को अंतर्राष्ट्रीय युवा सोसाइटी और नेशनल यूथ अवार्ड्स फेडरेशन ऑफ इंडिया से राष्ट्रीय गौरव सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • संचार मंत्री के करकमलों से पुरस्कृत हुए डॉ. प्रदीप
    पिछले सत्र 2018-19 को भारतीय डाक विभाग द्वारा अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन "ढाई आखर पत्र लेखन अभियान" के अंर्तगत सम्पूर्ण देश मे किया गया था, जिसमें नौ लाख से अधिक व्यक्तियों की भागीदारी हुई थी।