Latest News

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के तहत अजमेर के लिए रवाना हुए संथाल से 173 तीर्थयात्री

N7News Admin 23-09-2019 11:04 PM देवघर

अजमेर जाते तीर्थयात्री।




देवघर। 

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के तहत् झारखण्ड सरकार द्वारा राज्य के गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर कर रहे चयनित योग्य लाभुकों को आज अजमेर रवाना किया गया। संथाल परगना प्रमण्डल के सभी छः जिलों से कुल 173 तीर्थ यात्रियों को अजमेर दर्शन के लिए रवाना किया गया, जिसके तहत् दुमका से 28, गोड्डा से 28, पाकुड़ से 29, देवघर से 33, जामताड़ा से 38 एवं साहेबगंज से 17 तीर्थयात्रियों के दल को जसीडीह रेलवे स्टेशन से रवाना हुए.

अजमेर

संथाल परगना प्रमण्डल के सभी छः जिलों के तीर्थयात्रियों को यहाँ से रवाना करने के लिए जसीडीह रेलवे स्टेशन को पिकअप स्टेशन के लिए चिन्ह्ति किया गया था और तीर्थयात्रियों के स्टेशन पहुँचने पर उन्हें सभी मुलभूत सुविधा यथा-नास्ता, पानी, खाना, स्वास्थ्य जांच आदि की सुविधा उपलब्ध करायी गयी, ताकि उन्हें किसी प्रकार की समस्या न हो। साथ हीं ट्रेन के रवाना होने से पूर्व स्टेशन पर सभी तीर्थयात्रियों के सुविधा हेतु रेस्टरूम की भी व्यवस्था की गयी थी। इससे सभी में काफी हर्ष देखने को मिला। 

रात 2ः12 बजे सभी तीर्थयात्रियों को जिलावार दल बनाकर ट्रेन से उन्हें गंतव्य की ओर रवाना किया गया। इन तीर्थयात्रियों के साथ दो नोडल अधिकारी और तीन एटेन्डेन्ट को भी भेजा गया है, ताकि तीर्थदर्शन करने में यात्रियों को किसी प्रकार की कठिनाईयों का सामना न करना पड़े।

अजमेर

देवघर उपायुक्त नैंसी सहाय ने यात्रियों को तीर्थ यात्रा के लिए शुभकामनाएं दी और कहा कि खुदा से राज्य व देवघर की उन्नति के लिए प्रार्थना करें। 

अजमेर

मुस्लिम धर्मावलंबियों बुजुर्ग तीर्थयात्रियों ने मुख्यमंत्री के इस पहल की तारीफ की। बुजुर्गों ने कहा कि हमारा अजमेर शरीफ जाने का सपना पूरा हुआ है।

इस दौरान मौके पर जिला योजना पदाधिकारी राजीव रंजन सिन्हा, पर्यटन विभाग के रौनक दुबे एवं अन्य उपस्थित थे। 





रिलेटेड पोस्ट

  • राष्ट्रीय गौरव सम्मान से नवाज़े गए प्रिंस सिंघल
    गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के साथ बतौर सलाहकार काम कर चुके प्रिंस सिंघल को अंतर्राष्ट्रीय युवा सोसाइटी और नेशनल यूथ अवार्ड्स फेडरेशन ऑफ इंडिया से राष्ट्रीय गौरव सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • संचार मंत्री के करकमलों से पुरस्कृत हुए डॉ. प्रदीप
    पिछले सत्र 2018-19 को भारतीय डाक विभाग द्वारा अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन "ढाई आखर पत्र लेखन अभियान" के अंर्तगत सम्पूर्ण देश मे किया गया था, जिसमें नौ लाख से अधिक व्यक्तियों की भागीदारी हुई थी।