Latest News

महिलाओं को सशक्त व स्वाबलंबी बनाना हमारी प्राथमिकताःउपायुक्त नैन्सी सहाय

N7News Admin 23-09-2019 11:28 PM देवघर

कृषि विज्ञान केन्द्र, सुजानी में कार्यशाला।




देवघर।

उपायुक्त नैन्सी सहाय के आदेशानुसार कृषि विज्ञान केन्द्र, सुजानी, जसीडीह में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाल का आयोजन किया गया।

workshop

कार्यशाला के दौरान देवघर और मोहनपुर प्रखण्ड की 45 महिलाओं को मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण दिया गया। साथ ही मशरूम प्रयोग शाला का भ्रमण करा कर मशरूम उत्पादन की विभिन्न जानकारियों से स्वयं सहायता समूह की दीदीयों को अवगत कराया गया। इसके अलावे मशरूम लैब निरीक्षण के क्रम में ऑयस्टर, मिल्की, बटन, मशरूम की पैदवार व इससे होने वाले मुनाफे की जानकारी व इसके बाजार उपलब्धता की जानकारी भी दी गयी।

workshop

 इसके अलावे सखी मंडल की दीदीयों को केन्द्र के मिट्टी जांच प्रयोगशाला, नर्सरी एवं वर्मीकम्पोस्ट  इकाई का भ्रमण कराकर बेहतर उत्पादन के साथ अधिक पैदावार का सही भंडारण करने व अधिक मुनाफा कमाने के बारे में जानकारी दी गयी। साथ ही फसलों की पैदावार और रख-रखाव की जानकारी भी स्वयं सहायता समूह की दीदीयों को दी गयी। साथ ही बैद्यनाथ मंदिर के पूजन में अर्पित फूल व बेलपत्र से वर्मी कम्पोस्ट निर्माण कार्य का निरीक्षण कर खाद बनने की पूरी प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी सभी को दी गयी।

workshop

कार्यशाला के दौरान स्वयं सहायता समूह की दीदीयों ने मशरूम उत्पादन व्यवसाय में अपनी रूचि भी दिखायी जिसपर कृषि विज्ञान केंद्र, सुजानी के प्रशिक्षकों ने 10 दिवसीय प्रशिक्षण लेने की उचित सलाह दी।  

वर्कशॉप

प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान वरीय वैज्ञानिक पी0के0 सनीग्रही, डाॅ0 आनंद तिवारी, डाॅ0 राजन ओझा, विजय कश्यप, चंद्रेश कौशिक, अनिल कुमार राय, ललन कुमार सिंह, परिमल कुमार सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक प्रकाश रंजन एवं संबंधित प्रशिक्षक आदि उपस्थित थें।     





रिलेटेड पोस्ट

  • राष्ट्रीय गौरव सम्मान से नवाज़े गए प्रिंस सिंघल
    गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के साथ बतौर सलाहकार काम कर चुके प्रिंस सिंघल को अंतर्राष्ट्रीय युवा सोसाइटी और नेशनल यूथ अवार्ड्स फेडरेशन ऑफ इंडिया से राष्ट्रीय गौरव सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • संचार मंत्री के करकमलों से पुरस्कृत हुए डॉ. प्रदीप
    पिछले सत्र 2018-19 को भारतीय डाक विभाग द्वारा अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन "ढाई आखर पत्र लेखन अभियान" के अंर्तगत सम्पूर्ण देश मे किया गया था, जिसमें नौ लाख से अधिक व्यक्तियों की भागीदारी हुई थी।