Latest News

संथाल का नासूर बना है घुसपैठ

N7News Admin 19-11-2019 11:12 PM विशेष ख़बर

Symbolic Image



By: N7india.com (Desk)

साल 2000 के 15 नवम्बर को झारखंड की नींव तैयार हुई, जो आज परिपक्व हो चुका है। लेकिन यहां की सबसे जटिल समस्या को आज तक नही निबटाया जा सका। कई सरकारें आईं और गईं। हजारों-करोड़ों की योजनाएं फलीभूत भी हुईं। कई योजनाएं अभी तैयार हो रही हैं। लेकिन झारखंड की राजनीति में अहम भूमिका निभाने वाले संताल परगना में घुसपैठ करनेवालों को नही भगाया जा सका।

सोमवार को गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने एक बार फिर घुसपैठ के मुद्दे को संसद में उठाया। इससे पहले विजय हांसदा राजमहल संसद भी इस मामले को उठा चुके हैं। संप के साहिबगंज और पाकुड़ जिले में हजारों घुसपैठिये स्थाई रूप से बस चुके हैं। जिनका इस्तेमाल इन्हें बसाने वाले नेता अपने वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इन्हें भारत की नागरिकता इस इलाके के कुछ नेता ही दिलाते हैं। बांग्लादेश से सटा जिला होने के कारण वहां के लोगों को घुसपैठ में आसानी भी होती है। आज तक झारखंड में जितनी भी सरकारें बनी किसी ने इस मुद्दे पर तनिक भी ध्यान नही दिया। आज हजारों परिवार यहां बस चुके हैं। अब शायद इन्हें वापस बांग्लादेश भेजना कठिन भी होगा।

सोमवार को संसद में निशिकांत दुबे ने कहा है देश में हिन्दू, मुसलमान, सिख और ईसाई की जगह है घुसपैठियों की नही। कई बार तो देश मे हुए आतंकवादी घटनाओं के आरोपी भी इन्ही घुसपैठियों की मदद से यहां शरण लेते हैं। कुछ साल पहले वर्धमान बमकांड का मुख्य आरोपी राजमहल के पास बरहेट में फेरी कपड़ा वाला बनकर रह रहा था। इसे यहीं के घुसपैठियों ने दानापानी की व्यवस्था की थी। कुछ साल पहले एक आतंकवादी बरहरबा में मजदूर बनकर रह रहा था। इन घुसपैठियों के कारण बांग्लादेश से जाली नोट भारत आता है। सोना चोरी, एटीएम चोरी, मोबाइल चोरी के मामले में यह इलाका वर्षों से प्रख्यात है। लेकिन इन सबपर अब तक लगाम नही लगाया जा सका।

लेडी गैंग की बड़ी भूमिका चोरी में

राजमहल के पास एक इलाका है इसका नाम महाराजपुर है। इस इलाके में एक लेडी गैंग काम करती है। इस गैंग की मुखिया एक महिला है जो देश भर से चोरी किये गए मोबाइल और सोना खरीदती है और उसे बांग्लादेश भेज देती है। इस महिला की पहुंच इतनी तगड़ी है कि कोई भी इसके धंधे में हाथ नही लगा सकता। तगड़ी पहुंच के कारण ही यह महिला ट्रक के माध्यम से चोरी का सामान बांग्लादेश भेजती है और वहां से जाली नोट भारत लाती है।

एक पूर्व मुखिया अब तक नही पकड़ा गया

राजमहल के श्रीधर पंचायत का पूर्व मुखिया गणेश कीर्तनिया अब तक नही पकड़ा जा सका। आजकल वो बांग्लादेश बॉर्डर पर जाली नोट का बड़ा माफिया बना बैठा है। कुछ बरस पहले जाली पासपोर्ट बनाने के मामले में पुलिस ने इसे पकड़ा था। बाद में छोड़ दिया गया। इसके बाद से ही गणेश इलाके से गायब है। आजतक पुलिस इसे नही पकड़ सकी। घुसपैठियों का जाली मतदाता पहचान पत्र यही गणेश बनवाया करता था। जिसके जरिये जाली पासपोर्ट भी तैयार होता था।

पाकुड़ असला बारूद मंगवाते हैं ये घुसपैठिये

असला बारूद की तस्करी मामले में पाकुड़ हमेशा से सुर्खियों में रहा है। यहां के जरूरतमंदों को बांग्लादेश से असला बारूद इन्ही घुसपैठियों के माध्यम से लाया जाता है। कई बार एनआईए ने यहां कैम्प किया। हासिल कुछ नही हुआ।

पूरे देश में एनआरसी लागू हो : निशिकांत 

संथाल में अपनी पैठ जमा चुके घुसपैठ के मसले को संसद में उठा सांसद निशिकांत दुबे ने पूरे देश में NRC लागू करने की मांग रखी। निशिकांत दुबे ने कहा कि देश में हिन्दू, मुसलमान, सिख और ईसाई की जगह है घुसपैठियों की नही। 





रिलेटेड पोस्ट