Latest News

सब मिलकर लड़ेंगे कोरोना से जंग, CM हेमंत को MP निशिकांत ने दिये सुझाव

N7News Admin 11-04-2020 08:16 PM टाॅप न्यूज़



Edited By: शबिस्ता आज़ाद 

 

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण उपजे हालत से निबटने के लिए गोड्डा सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने कुछ जरूरी सुझाव दिये हैं।

सांसद डॉ. निशिकांत दुबे ने 11 सुझाव सीएम हेमंत सोरेन को दिए हैं. ताकि वर्तमान परिस्थिती से निबटा जा सके। सांसद ने कोरोना वायरस को लेकर व्यवस्थाओं के साथ साथ lockdown की वजह से प्रभावित हुए किसानों, शहर व निगम में रहने वाले लोगों, छोटे व्यापारियों,  प्रवासी मजदूरों, देवघर व बासुकिनाथ मंदिर पर आश्रित पुरोहित, फूलवाले, फोटो वाले, पेड़ा वाले, होटल, रिक्शा वालों को राहत देने की मांग व सुझाव सीएम हेमंत सोरेन को दी है। 

CM हेमंत सोरेन को MP निशिकांत दुबे द्वारा दिए गए सुझाव :-

1. किसानों का इस साल लगान माफ़

2. शहरों या म्यूनिसिपल क्षेत्र में रहने वालों का भी इस साल टैक्स माफ

3. छोटे व्यापारी का राज्य जीएसटी माफ़

4. किसानों का क़र्ज़ माफ़

5. लॉकडॉउन के बाद नरेगा के साथ पूर्व की तरह काम के बदले अनाज कार्यक्रम चालू किया जाए 

6.  कोरोना जॉंच की सुविधा देवघर एम्स में चालू की जाए

7. अभी या भविष्य में टीबी,मलेरिया,कोरोना या इस तरह के बीमारी के लिए स्थाई तौर पर हंसडिहा अस्पताल को विकसित किया जाए,क्योंकि यह संथालपरगना के सभी ज़िले से सामान दुरी पर है तथा घनी आबादी से दूर है

8. प्रवासी मज़दूरों को बिहार सरकार की तरह 1000 रुपये उनके खाते में दिया जाए

9. सभी गरीब व अमीर को राशन पूर्व की भाँति दी जाए,क्योंकि झारखंड में 85 प्रतिशत खाद्य सुरक्षा क़ानून के तहत आते हैं केवल 15 प्रतिशत के लिए डीलर या अधिकारी मनमानी करते हैं

10. देवघर व वासुकिनाथ मंदिर पर आश्रित पंडा,फूलवाले,फ़ोटो वाले,पेड़ा वाले,होटल,रिक्शा  सभी को पैसा देना चाहिए,क्योंकि झारखंड की पहचान इन मंदिरों से भी है और यह शहर मंदिर से है

11. जो लोग बाहर से आ रहे हैं या आएँगे वे 14 दिन गॉंव,शहर ज़िला से बाहर रहे। 

जानकारी हो कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने झारखंड के सांसद और विधायकों से कोरोना से जंग को लेकर सुझाव मांगा था। लेकिन जो लिंक सरकार की ओर से दिया गया था, उस लिंक में गड़बड़ी होने के कारण सरकार ने झारनेट के लिंक पर वीडियो कांफ्रेंसिंग की. इस वजह से सांसद निशिकांत मुख्यमंत्री के साथ कांफ्रेंसिंग में नहीं जुड़ पाये थे. ऐसे में उन्होंने बाद में अपना सुझाव मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भेजा है। 





रिलेटेड पोस्ट