Latest News

कोरोना से ज्यादा अनजाने डर से लोग परेशान हैं, ये समय अवसाद का नहीं अवसर का है ....

N7News Admin 13-05-2020 02:01 PM विशेष ख़बर

Concept Image



Nitin piryadarshi Written By: डॉ. नीतीश प्रियदर्शी

रांची। 

आज कोरोना का भय चारो तरफ व्याप्त है। तरह-तरह की सूचनाएं सोशल वेबसाइट्स पर शेयर किया जा रहा है। इस वायरस के बारे में किसी को कोई सटीक जानकारी नहीं है।  ऐसा लग रहा है कि इस बीमारी से ज्यादा जो भय उत्पन्न हो रहा है उससे ज़्यादा लोग परेशान हैं । भय ज्यादा उसी को लेके होता है जिसके बारे में हमको अधिक ज्ञान नहीं होता जैसे ये covid-19  या फिर अकाल मृत्यु का भय।

कोरोना के बारे में कोई भी सटीक जानकारी नहीं है और न ही दवा और यही भय का सबसे बड़ा कारण है।  फिर नौकरी जाने का भय , भूखे मरने का भय , गरीब होने का भय , ये सारे कारण लोगों को परेशान कर रही है। कोरोना के भयभीत कर देने वाले सूचनाओं  से लोग काफी डरे हुए हैं जिसके चलते इतनी अधिक मात्रा में पलायन,  भूख से मरना ,  आत्महत्या की खबरें आ रही हैं। लोग अपने-अपने हिसाब से सूचनाओं का आदान प्रदान कर रहे हैं जिसकी कोई वैज्ञानिक सत्यता नहीं है। लोगों का ध्यान सिर्फ नकारात्मक समाचारों पे जा रहा है कि रोज कितने लोग मर रहे हैं। ये भी देखना होगा कि मरने से ज्यादा लोग इस बीमारी से ठीक हो रहे हैं।  क्योंकि वायरस से तो आप बच सकते हैं लेकिन ये जो मरने का भय लोगों के दिलो में बैठ गया है उस से  बचना बहुत मुश्किल है।

आज के समय में बहुत कठिन है ये समझना की भयभीत नहीं होना है।  लेकिन अगर हमलोग भयभीत होते रहे तो भविष्य के लिए कुछ भी योजना नहीं बना पाएंगे। वायरस से तो कम इस भय से ज्यादा लोग मरेंगे। अगर इस भय को जल्दी न निकाला गया तो कई सामाजिक रश्तों में भी दरारे पड़ेंगी। रही बात महामारी की तो विश्व में पहले भी कई महामारी आई और लाखों लोग मरे और जिस तरीके से मनुष्य इस प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहा है तो भविष्य में भी कई तरह की महामारियाँ आएँगी। पहले लाखों लोग प्लेग, इबोला वायरस , डेंगू , मलेरिया  और हैज़ा इत्यादि से मरे। भारत में मनुष्यजनित आपदा से भी हज़ारों लोग मरे जैसे भोपाल गैस त्रासदी । विश्व में इस वायरस से ज्यादा लोग प्राकृतिक आपदा से मर रहे हैं जैसे बाढ़ , सुनामी , भूकंप , सूखा इत्यादि।

हम सभी को 2001 में गुजरात का भूकंप याद होगा इसमें करीब 20,000 लोग मारे  गए थे।  उत्तराखंड त्रासदी इसमें करीब 10,000 लोग मारे गए।  बहुतों का शव आज तक नहीं मिला। दूसरी तरफ  ह्रदय घात ,किडनी का काम नहीं करना , कैंसर जैसी बीमारियां ज्यादा लोगो को मार रही है।

अगर भय से निकलना है तो इस समय को डर में जीने से ज्यादा अच्छा होगा की लोग अपना समय नए अवसर ढूंढने  में लगाएं, नकारत्मक वीडियो या फिर समाचार न पढ़ें ,  अगर अभी कमाई कम हो गई हो तो उसको कैसे बढ़ाया जाये ये सोचने में लगाएं,  नए व्यवसाय के बारे में सोचें ,  नए नए चीजों को सीखें , किताबो को पढ़े , व्यायाम करें , शरीर को खूब थकाएं , शरीर की प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाएं, बीमारी पर बेवजह चर्चा करने से बचे क्योंकि इस बीमारी के बारे में हम कुछ नहीं जानते। जो गरीब मज़दूर वापस आ रहे हैं वो भी अब गंभीरता से सोचें की अब क्या करना है।

सरकार को उनकी मदद करनी होगी।  ये भय एक सामूहिक पागलपन की तरह है जो वायरस से ज्यादा तेज़ी से फैलेगा । लोग मृत्यु से पहले मृत्यु तुल्य कष्ट को झेलेंगे एक जिन्दा लाश की तरह। पूरा समाज बिखर जायेगा।  लोग एक दूसरे से डरेंगे। डर मनुष्य का एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है।  इस महामारी में डर तो लगेगा लेकिन अगर हो सके तो इस डर को अपने ऊपर हावी नहीं होने दें ।  प्रकृति ने  लॉक डाउन के बहाने हम सभी को अपने को समझने के लिए बहुत अच्छा समय दिया है।  इस समय में  डरने की बजाय इसका सदुपयोग करने की जरुरत है। 

इतना ध्यान रखिये कि विश्व में पहले भी कई तरह की महामारी आई और करोडो लोग भी मरे फिर भी दुनिया चल रही है। पहले भी प्राचीन काल में सूखे और बाढ़ की वजह से लाखों लोग विस्थापित हुए थे।  पृथ्वी हमेशा संतुलन बनाये रखने के लिए इस तरह की आपदा लाती है।  जब से  पृथ्वी बनी है (4.5 बिलियन वर्ष पहले ) तब से संतुलन बनाये रखने के लिए पांच बार महाविनाश कर चुकी है।  ये भी तय है कि छट्ठा महाविनाश अपने प्रथम चरण में है और आने वाले सालो सालोँ में ये धीरे धीरे बढ़ेगा। अब समय चिंतन करने का है कि कैसे इस आपदा से निकला जाए। अगर भविष्य में इस तरह की महामारी से बचना है तो पृथ्वी और पर्यावरण के बनाये हुए नियमों को पालन करना होगा। 

डॉ. नीतीश प्रियदर्शी ,पर्यावरणविद एवं  असिस्टेंट प्रोफेसर भूगर्भ विज्ञान विभाग, रांची विश्वविद्यालय। 




रिलेटेड पोस्ट