Latest News

देवघर: बिरसा हरित क्रांति योजना के तहत चल रहे कार्याें का डीसी ने किया निरीक्षण 

N7News Admin 30-05-2020 05:43 PM देवघर

जायज़ा लेती देवघर डीसी नैंसी सहाय।



■ क्वारंटाइन सेंटर में दी जाने वाली सुविधाओं व व्यवस्थाओं का उपायुक्त ने किया अवलोकन
■ उपायुक्त ने दीदी किचन व दाल-भात केन्द्र का किया औचक निरीक्षण


बिकानेर


देवघर। 

शनिवार को उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी नैंसी सहाय द्वारा मारगोमुण्डा प्रखंड स्थित पंदनियां गांव के चोरकट्टा गांव में बिरसा हरित क्रांति योजना के तहत चल रहे कार्यों का निरीक्षण कर वास्तुस्थिति से अवगत हुई। इस दौरान उन्होंने कार्य कर रहे श्रमिकों को साफ-सफाई के साथ-साथ शारीरिक दूरी का पालन करते हुए अपने कार्याें का निर्वहन करने का निर्देश दिया। इसके अलावा निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त ने चल रहे आम बागवानी कार्यक्रम को लेकर संबंधित अधिकारियों को संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश दिया। साथ हीं पूर्व के अनुभवी कृषक जो बागवानी का कार्य पहले भी कर चुके हैं, उनसे बात चीत कर उपायुक्त द्वारा उनका अनुभव साझा किया गया। डीसी ने अनुभवी कृषक मित्रों से भी अपील करते हुए कहा कि दूसरे कृषकों को भी इससे जुड़ी जानकारी अवश्यक साझा करें, ताकि कृषक प्रेरित होकर इस योजना के तहत लाभान्वित हो सके।

बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत एक हजार एकड़ में पौधारोपन करने का लक्ष्य निर्धारितःडीसी

निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त नैंसी सहाय द्वारा जानकारी दी गयी कि योजना के तहत ग्रामीणों को फलदार वृक्ष लगाने व उसकी देखभाल करने संबंधी रोजगार मिलेगा। इसमें बुजुर्गों और विधवा महिलाओं को प्राथमिकता दी जायेगी, ताकि उनके लिए भी रोजगार उपलब्ध हो सके। इस योजना के जरिये सरकार सड़क किनारे, सरकारी भूमि, व्यक्तिगत या गैर मजरुआ भूमि पर फलदार पौधा लगाने के लिए ग्रामीणों को प्रोत्साहित करेगी। इन पौधों की देखभाल की जिम्मेवारी ग्रामीणों की होगी। अगले पांच साल तक पौधों को सुरक्षित रखने के लिए सहयोग मिलेगा। उन्हें पौधों का पट्टा भी दिया जायेगा, जिससे वे फलों से आमदनी कर सकें। पौधारोपण के करीब तीन साल बाद प्रत्येक परिवार को 50 हजार रुपये की वार्षिक आमदनी होगी। साथ ही फलों की उत्पादकता बढ़ने की स्थिति में फलों को प्रसंस्करण व उसके बाजार उपलब्ध कराने की व्यवस्था होगी। इस योजना के तहत पूरे जिले में एक हजार एकड़ में पौधारोपण के साथ दो लाख पौधा लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

■ क्वारंटाइन सेंटर में साफ-सफाई के साथ पौष्टिक भोजन पर दें विशेष ध्यानः-उपायुक्त

निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त नैंसी सहाय ने पंदनियां उच्च विद्यालय में क्वारंटाइन सेंटर का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया गया। इस दौरान उन्होंने क्वारंटाइन सेंटर में सुरक्षा व्यवस्था के साथ मरीजों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं और स्वच्छता को लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा निर्देश दिया। 
जानकारी हो कि लॉकडाउन में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु पूरे जिले में क्वारेंटाइन सेंटर प्रखंड तथा पंचायत स्तर पर बनाए गए हैं, जहां पर संदिग्ध तथा जिले से बाहर से आने वाले लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है ताकि उनका बेहतर तरीके से रखरखाव किया जा सके। इसके अलावे निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त नैंसी सहाय द्वारा क्वारंटाइन सेंटर में बिजली व्यवस्था, शौचालय, शुद्ध पेयजल के साथ सभी मूलभूत सुविधाओं को पूरी तरह से दुरुस्त रखने का निर्देश प्रखंड विकास पदाधिकारी व अंचलाधिकारी को दिया।

डीसी

■ साफ-सफाई साथ सोशल डिस्टेंसिंग का रखे विशेष ख्यालः- उपायुक्त

लाॅकडाउन के दरम्यान असहाय, दिव्यांग, बुजुर्ग लोगों को दीदी किचन व दाल-भात केन्द्र के माध्यम से निःशुल्क भोजन कराये जाने की व्यवस्था का औचक निरीक्षण उपायुक्त नैन्सी सहाय द्वारा किया गया। इस दौरान उपायुक्त द्वारा मारगोमुण्डा प्रखण्ड अंतर्गत पिपरा व रामपुर पंचायत के अलावा विभिन्न दीदी किचन व दाल-भात केन्द्रों में समाज के बेसहारा, जरूरतमंद एवं अति गरीब लोगों करायें जा रहे भोजन की गुणवत्ता की जानकारी भोजन कर रहे लोगों से ली गयी। साथ ही साफ-सफाई की व्यवस्था, साबुन की उपलब्धता व लाभुक पंजी, स्टाॅक पंजी से जुड़े आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश उपायुक्त द्वारा संबंधित अधिकारियों को दिया गया।  निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त द्वारा इन केन्द्रों में कार्य कर रहे कर्मियों व सखी मंडल के दीदियों को निदेशित किया कि लोगों को भोजन कराते समय स्वच्छता व सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखें।

 भोजन की गुणवत्ता से न हों समझौताः उपायुक्त

इस दौरान उपायुक्त नैन्सी सहाय द्वारा जिला आपूर्ति पदाधिकारी, संबंधित प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अचंलाधिकारी व जेएसएलपीएस के जिला कार्यक्रम प्रबंधक को निदेशित किया कि दीदी कैफे, दाल-भात केन्द्रों व विशेष दाल-भात केन्द्रों में भोजन की गुणवत्ता का विशेष ख्याल रखें। साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखे कि इन केंद्रों के माध्यम से गरीब व असहाय परिवारों को भोजन की सुविधा मिलती रहे। इसके अलावे उपायुक्त द्वारा सभी केन्द्रों पर स्वच्छ रहे, स्वस्थ्य रहे के नारे का पालन करते हुए भोजन के पूर्व साबुन अथवा सेनिटाइजर से हाथों को धुलवाना और कोविड-19 से बचाव की जानकारियों से भी लोगों को अवगत कराने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया गया।
इस दौरान उपरोक्त के अलावे जिला आपूर्ति पदाधिकारी श्री विशाल दीप खलखो, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, मारगोमुण्डा श्री संतोष चैधरी एवं संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे।


lg





रिलेटेड पोस्ट