Latest News

भगवान श्रीराम की अर्द्धांगिनी की जन्मभूमि की अनदेखी अन्यायपूर्ण

N7News Admin 14-09-2020 09:01 PM विशेष ख़बर




बिहार।

स्वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत आने वाले 13 पर्यटन सर्किट में ‘रामायण सर्किट’ के अन्तर्गत मिथिला क्षेत्र के विकास की केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तावित योजना के कार्यान्वयन को लेकर बिहार सरकार पर शिथिलता बरतने, मिथिला क्षेत्र की उपेक्षा करने और क्षेत्रीय भेदभाव किए जाने का आरोप लगाते हुए मिथिला लोकतांत्रिक मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मिथिला आंदोलनी मनोज झा ने सरकार से इस दिशा में अविलंब सकारात्मक पहल किये जाने की मांग की है।

जानकी मंदिर का पुनरूद्धार कर उसे भव्य स्वरूप दिये जाने की मांग

उन्होंने मिथिला क्षेत्र में माता सीता की प्राकट्य स्थली सीतामढ़ी में जानकी मंदिर का पुनरूद्धार कर उसे भव्य स्वरूप दिये जाने की मांग करते हुए बिहार सरकार और इसके पर्यटन मंत्रालय से रामायण सर्किट के अन्तर्गत इस सांस्कृतिक महत्व के कार्ययोजना के लिए आगे आने की वकालत करते हुए कहा है कि इससे मिथिला क्षेत्र में पार्यटनिक विकास का मार्ग प्रशस्त होगा।

     मनोज झा                                                                                                                                          मनोज झा की तस्वीर

बुद्ध सर्किट की तर्ज पर सीता सर्किट बनाए जाने की जरूरत

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके द्वारा पूर्व में किए गए वादा के अनुरूप पुनौराधाम को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का आग्रह करते उन्होंने कहा है कि वैशाली और नालंदा के तर्ज पर मिथिला क्षेत्र के विभिन्न जगहों को चिन्हित किए जाने और तदनुसार धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बुद्ध सर्किट की तर्ज पर सीता सर्किट बनाए जाने की जरूरत है।

भगवान श्रीराम की अर्द्धांगिनी के जन्मभूमि और मिथिला क्षेत्र में मौजूद उनके तमाम साक्ष्य स्थलों की अनदेखी अन्यायपूर्ण

मनोज झा कहते हैं कि जगत जननी भगवती सीता की प्राकट्य स्थली होने के कारण मिथिला की माटी का कण-कण चंदन के समान पूजनीय माना गया है। जनक पुत्री मां जानकी मिथिला की संस्कृति की पर्याय हैं और भगवती की जन्म-भूमि होने के कारण ही आध्यात्मिक दृष्टि से भी मिथिला सदैव शीर्ष पर रहा है। मिथिला क्षेत्र में प्रकट लेकर इस क्षेत्र को अति महत्वपूर्ण बनाने वाली भगवान श्रीराम की अर्द्धांगिनी के जन्मभूमि और मिथिला क्षेत्र में मौजूद उनके तमाम साक्ष्य स्थलों की अनदेखी को अन्यायपूर्ण बताते हुए अध्यक्ष मनोज झा केन्द्र सरकार से इन सभी पवित्र स्थलों का कायाकल्प और भव्य स्वरूप प्रदान किये जाने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रामायण काल से जुड़े स्थलों को विकसित किए जाने की अपनी घोषणा के अनुरूप मिथिला क्षेत्र के विभिन्न जिलों के उपेक्षित स्थलों का जीर्णोद्धार करने और सीतामढी के पुनौरा धाम में जगत जननी मां जानकी की भव्य मंदिर निर्माण किये जाने की दिशा में केन्द्र सरकार से भी अविलंब सकारात्मक पहल किये जाने की मांग की है।

मनोज झा,मिथिला लोकतांत्रिक मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। 


नमन





रिलेटेड पोस्ट